2022 में 71 दिन गूंजेगी शहनाई, जानिए कौन-कौन से शादी के शुभ मुहूर्त।

2022 में  71 दिन गूंजेगी शहनाई, जानिए कौन-कौन से शादी के शुभ मुहूर्त।

साल 2022 शादियों के लिए शुभ मुहूर्तों से भरा है। वहीं दूसरी ओर कोरोना का बढ़ता संक्रमण लोगों की चिंता को बढ़ा रहा है. ज्योतिषियों के मुताबिक इस साल 71 दिनों तक शहनाई की गूंज सुनाई देगी। वहीं साल 2021 में कोरोना की मार और शुभ मुहूर्त कम (केवल 51) होने से शादियों का सीजन ठप हो गया। इस बार भी संशय है।

बिलासपुर सैनी मोहल्ला के पंडित शास्त्री योगेश शर्मा ने बताया कि साल 2022 शादी के लिए शुभ मुहूर्त भरा है. जनवरी से दिसंबर तक विवाह के लिए 71 दिन शुभ होते हैं। हालांकि इस बार अगस्त और सितंबर में शादी के लिए एक भी शुभ मुहूर्त नहीं है। शादी के बंधन में बंधने जा रहे जोड़ों के परिवारों ने कुंडली मिलान का काम भी शुरू कर दिया है। असफल संचालक विपिन कुमार का कहना है कि इस वर्ष अधिक शुभ मुहूर्त होने के कारण कई माह पहले ही बुकिंग करा दी गई है। फिलहाल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रशासन ने शादी में सिर्फ 100 लोगों को ही शामिल होने की इजाजत दी है, अगर बात बढ़ी या लॉकडाउन की स्थिति बनी तो स्थिति गंभीर हो सकती है. जिसका सीधा असर विवाह समारोह से जुड़े वाहनों, घोड़ों के विक्रेता, सजावट और फूलों पर पड़ेगा।

शास्त्री योगेश शर्मा के अनुसार विवाह और पंचांग में वर और वधू दोनों की कुंडली का मिलान किया जाता है। जिसे कुंडली और गुना मिलान कहते हैं। वर-वधू की कुंडली देखने पर उनमें 36 गुण सुमेलित होते हैं। जब दोनों के कम से कम 18 से 32 गुण संयुक्त हो जाते हैं, तो विवाह सफल होने की संभावना होती है। कुंडली में सप्तम भाव विवाह के बारे में बताता है। इसके बाद वर और वधू की जन्म राशि के आधार पर विवाह समारोह की निश्चित तिथि, युद्ध, नक्षत्र और समय निर्धारित किया जाता है। जिसे विवाह मुहूर्त कहते हैं। विवाह मुहूर्त के लिए ग्रहों की दशा और नक्षत्रों का विश्लेषण किया जाता है।


पंडित योगेश शर्मा ने बताया कि वर्ष 2022 के अगस्त, सितंबर और अक्टूबर के महीनों में विवाह और शुभ कार्यों के लिए कोई शुभ मुहूर्त नहीं है. उन्होंने बताया कि चातुर्मास की वजह से तीन महीने तक शहनाई नहीं बजायी जाएगी.